जानिए निश्चित गर्भधारण का समय क्या है । ovulation time। - HealthUpachar

जानिए निश्चित गर्भधारण का समय क्या है । ovulation time।

शादी के बाद दाम्पत्य जीवन मे पेरेंट्स बनने का हर एक का सपना होता है ।  भारतीय परंपरा के अनुसार प्रजोत्पादन का यह सही तरीका है ।सभी को लगता है कि नन्हे की किलकरिया घर में गूंजे ।  हर युवती का गर्भधारण का समय अलग होता है ।  कुछ युवती यो में अनिश्चित मासिकधर्म के रहते यह जानना कठिन होता है कि उसका निश्चित गर्भधारण का समय क्या है ।  19 से 28 की उम्र में युवतीओ को गर्भधारण में  जल्द होने की संभावना होती है वही 30 से 32 के बाद प्रेग्नेंसी ठहरने के चांसेज कम हो जाते है ।

आज हम निश्चित गर्भधारण समय क्या है इसके बारे में जानेंगे ।

गर्भधारण न होने के कारण  :

बहोत सी महिलाओ में मासिक धर्म मे अनिश्चितता होती है जिससे कि उनमें गर्भवती होने में दिक्कत आती है ।

मासिक धर्म की अनिश्चितता के कारण महिलाओ का सही ovulation (ओवुलेशन) time का पता नही चल पाता ।

ज्यादा तनाव में रहने से या अनियमित दिनचर्या के कारण भी प्रेगनेंसी ठहरने में कठिनाइयां आती है ।

ज्यादा वजन के कारण या ज्यादकमजोर महिलाओ में भी गर्भधारण जल्द नही हो पाता।

प्रणय सही से नही होने पर भी यह समस्या हो सकती है ।

ऐसे में आप डॉक्टरी सलाह ले ।

गर्भधारण का समय

निश्चित गर्भधारण का समय :

  • जैसे कि हम ऊपर देख चुके है कि ओवुलेशन टाइम का निश्चित होना सबसे अहम है वह जानने के लिए आप डॉक्टरों की सलाह ले सकते है या महिला की माहवारी होने के बाद 1o से 12 दिन बाद ovuletion टाइम चालू होता है । और माहवारी आने के एक हप्ते पहले तक यह रहता है ।

पर इसमे मासिक धर्म मे नियमितता होनी चाहिए । न हो          तो आप डॉक्टरों से ट्रीटमेंट लेकर माहवारी नियमित                बनाये ।इससे गर्भधारण में आसानी होगी ।

  • माहवारी चालू रहते समय आप गर्भधारण नही कर सकती क्योंकि शुक्राणु रक्तस्राव के कारण बाहर आ जाते है ।माहवारी के 7 से 8 दिन बाद प्रणय करने से गर्भधारण होने के चांसेस ज्यादा रहते है ।
  • माहवारी के 7से8 दिन बाद नियमित रूप से प्रणय करे रोज न हो  तो एक दिन बाद तो जरूर करे ।
  • सेक्स के सही स्टेप्स फॉलो करें ,तथा सेक्स होने के बाद महिलाएं तुरंत योनी को साफ न करे कुछ देर पीठ के बल लेटी रहे ।इससे शुक्राणु अंडाशय तक पोहचने मे सहायता मिलती है ।
  • सन्तुलित आहार ले तथा ज्यादा गर्म मिजाज का खाना न खाए उससे गर्भधारण होंने में दिक्कत आती है ।शरीर की हीट बढ़ने पर गर्भ नही ठहर पाता । जैसे कि :आम,चीकू अंजीर,  गर्म मसाले, पपीता,ज्यादा चाय ,कॉफी आदि जो भी गर्म चीजे हो उनसे परहेज करें ।
  • पहली प्रेग्नेंसी को abort न करे इससे शरीर मे complications बढ़ सकते है तथा बाद में गर्भधारण होने में समस्या आ सकती है ।
  • आप गर्भनिरोधक औषधियां ले रही है तो उसे साल भर पहले से छोड़ दीजिये ।
  • जब भी प्रणय करो तो मन और शरीर ताजा हो दोनों पूरी तरह उत्तेजित होने के बाद ही करो इससे शरीर मे हार्मोन्स और स्पर्म में बदलाव होकर प्रग्नेंसी जल्द ठहर जाती है ।
व्यायाम करें :
  • नियमित व्यायाम करें इससे शरीर का मोटापा कम होगा जिससे प्रग्नेंसी ठहरने में सहाय्यता होगी ।
  • तथा कमजोर हो तो पहले शरीर सही करो बाद में प्रेग्नेंसी के चांस लो नही तो बच्चेपर भी असर हो सकता है ।तथा डिलीवरी में भी प्रॉब्लम आ सकते है ।

गर्भधारण का समय

धूम्रपान या नशा न करे:

आजकल की बदली हुई जीवन शैली में महिलाओं का नशा या धूम्रपान करना एक आम बात है पर आप जब प्रेग्नेंसी चाहते हो तो आपको इन दोनों से दूर रहना पड़ेगा । क्योंकि इससे प्रजनन अंगों  पर दुष्प्रभाव होता है और गर्भपात होने की संभावना बढ़ती है या गर्भधारण होने में समय लग सकता है ।

 

 

ऊपर की सभी जानकारी लाभकारी है ,तो भी आप गर्भधारण के लिए डायरेक्ट डॉक्टरों से कंसल्ट करे ।

धन्यवाद ,इससे releted अधिक जानकारी के लिए हमे [email protected] पर सम्पर्क करें।

 

 

 

error: Content is protected !!