डेंगू बुखार के प्रारम्भिक लक्षण और उसकी रोकथाम।

भारत देश मे डेंगू बुखार अक्सर देखा जाता है ।यह उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में पाई जाने वाली बीमारीओ में से एक है।डेंगू बुखार  होने का एकमात्र कारण है मच्छर काटना ।  बड़ो के मुकाबले यह बच्चो में ज्यादा दिखता है क्योंकि उनकी इम्यून system पूरी तरह devlop नही होती है।मच्छरों में से एडिज नामक मच्छरों के काटने से यह शरीर मे फैलता है। यह मच्छर साफ पानी मे पनपते है और दिन में काटते है ।तथा रोगी को साधारण मच्छर काटे और वही मच्छर निरोगी व्यक्ति को काटने से भी यह हो सकता है।  मच्छरों से बचाव ही डेंगू बुखार का एकमात्र उपाय है । सावधानी के बावजूद भी यह हो तो सुरुवाती दौर में इसका जल्द इलाज करवाए इसके ज्यादा बढ़ने से या समय पर ईलाज न मिलने पर रोगी की जान भी जा सकती है ।  मानसून में डेंगू बुखार अधिकतर होने की संभावना होती है ।  डेंगू होने पर डॉक्टरों से दी गई  औषधियों को ही ले अपने मन से कोई भी मेडिकल औषधियां न ले  आप कुछ घरेलू उपाय भी आजम सकते है । आइये तो हम इसकी पूरी जानकारी देखे और इसपर घरेलू उपाय भी।

डेंगू बुखार

 

क्या है डेंगू :

डेंगू यह मादा मच्छर एडीज के काटने पर जो कि डेंगू के विषाणु व्यक्ति के शरीर मे छोड़ती है और डेंगू के लक्षण इसके काटने के बाद 3 से 4 दिन बाद दिखाई देना सुरु होते है। इसमे बुखार आता है यह बुखार 104  से भी अधिक हो सकता है ईसके साथ भी कुछ और लक्षण दिखाई देते है । रोगी के खून की जांचे बाद ही यह समझ ता है ।  डेंगू बुखार 10 दिन तक रह सकता है और उतरने के बाद 4 से 5 हप्तों तक शरीर मे कमजोरी रह सकती है। डेंगू तीन प्रकार के होते है ।

  1. सामान्य डेंगू ।
  2. हैमरजिक डेंगू ।
  3. शॉक सिन्ड्रोम डेंगु ।

इसमे  पहला वाला सामान्य डेंगू पर जल्द इलाज हो सकता है पर इसपे समय पर इलाज न होने से यह आगे की दो डेंगू में तब्दील होने के चांसेस होते है ।और यह बहोत गम्भीर रूप के होते है  इसमें रोगी की जान भी जा सकती है।जितना जल्द हो सके डेंगु का इलाज करवाए या सीधे डॉक्टर से सम्पर्क करें।

 

यब पढ़े…मलेरिया से दूर रखें अपने बच्चों को। Maleriya fever

डेंगू बुखार

डेंगू के लक्षण :

तेज बुखार ।

थकान और कमजोरी ।

भूख न लगना ,मुह में कड़वाहट।

त्वचा पे लाल चकत्ते या रैशेस आना ।

उल्टी मितली होना ,उल्टी में से खून आना ।

सही इलाज न मिलने पर प्लेटलेट्स कम होना ,ब्लडप्रेशर कम होना।

मसूड़ो और नाक से खून आना।

तेज सिरदर्द ।

मांसपेशिओ में दर्द ।

 

यह पढ़े…..बुखार का रामबाण उपाय। fever

डेंगू होने का कारण

डेंगू होने का एकमात्र कारण है मच्छर ।

डेंगू बुखार के घरेलू उपाय। :

  • तुलसी के पत्तो को खाये या या इसका रस शहद में या पिसी हुई कालीमिर्च में मिलाकर देने से आराम मिलेगा।
  • गिलोय को पानी मे उबाल लें और दिन में 2 से 3 बार बच्चो को पिलाये
  • गिलोय के रस में शहद मिलाकर  खाये ,गिलोय में immune systemमजबूत बनाने के सारे गुण मौजूद होते है।
  • तेज बुखार हो तो ठन्डे पानी की पट्टीया रखे या स्पंजिग करे ,
  • तौलिया भिगोकर निचोड ले और बच्चे  केे बदन पर 1 मिनट के लिए लपेटे इससे बुखार कम होगा ।
  • पपीते के पत्तो का रस पिलाये इससे प्लेटलेट्स बढ़ने में मदत होती है ।
  • मेथी की सब्जी खाये या इसके दानों को भिगोकर इसका पानी पिये तथा इसकी पावडर पानी के साथ पिये।
  • हल्दी :चुटकी भर हल्दी पानी के साथ पिये या रात में दूध में डालकर पिये ।
  • फल खिलाये । या ज्यूस पिलाये।
  • Kivi के फल को खिलाय इससे प्लेटलेट्स बढ़ने मदद होगी।
  • तरल पदार्थों को ज्यादा मात्रा में दे।
  • पानी ज्यादा पिलाये जिससे dihydration नही होगा । नारियल पानी दे ।
  • मनुका खिलाय इससे बुखार कम होंगा।
  • हल्का और पौष्टिक खाना खिलाये।

 

डेंगू बुखार

 

डेंगू में बचाव :

ठण्डपानी न पिएं ।

मसालेदार,तले हुए पदार्थो से दूर रहे ।

घर मे अगर किसी को डेंगू हुआ है ,तो उनके देखभाल करने वाले लोग मच्छरों से सावधानी बरते , रोगी के पास मच्छर मारनेवाली दवाइया छिड़के या मच्छर मारने वाली coil या liquid लगाए ।

घर या घर के बाहर सफाई रखे कही भी पानी न जमने दे ।गंदे नालियो में तालाब में मच्छर मारने वाली दवाइया छिडके या तो मिट्टी का तेल डाले।

डेंगू के मच्छर ज्यादा करके साफ पानी मे रहते है ,इसलिए घर के पानी की टंकी को ढक के रखे।

घर के door और window को जाली लगवा ले ताकि मच्छर अंदर न आ सके।

बच्चो को हल्के रंग के कपड़े पहनाये , और घर में हल्के रंग के पर्दो का इस्तेमाल करे ,मच्छर गाढ़े रंग से ज्यादा attract होते है इसवजह से।

बच्चो को पूरी बाह वाले कपड़े पहनाये और full pants पहनाये।

बच्चों को खुले में खेलने दे ज्यादा झाड़ियों में तथा घास में मच्छर ज्यादा रहते है।

घर के कोनो में कपूर डाले इससे भी मच्छर और मक्खियां नही रहते ,घर का निरजन्तुकी करण होता है ।

घर के बाहर निम कि पत्तियो को जलाए इससे मच्छर नही आते ।

मानसून में बच्चो की ज्यादा देखभाल करें।

याद रखे अभीतक डेंगु को रोकने की कोई भी दवा या वैक्सीन उपलब्ध नही है ,इसलिए मच्छरों से बचाव ही इसका एकमात्र इलाज है ।

धन्यवाद, यह article आपको फायदे मंद लगा हो तो शेयर जरूर करे आपका share हमारे लिए बहोत कीमती है और इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आप हमें

[email protected] पर सम्पर्क करें ।

 

 

 

 

 

 

 

error: Content is protected !!