दाँत निकलना in child इलाज। - HealthUpachar

दाँत निकलना in child इलाज।

बच्चो मे दाँत निकलना

 

 

 दाँत निकलना

जादा तर 6 से 7 माह से बच्चो मे दाँत निकलना सुरू हो जाते है ।कुछ बच्चो मे इससे जल्दी या देरी से दाँत निकलते है।  बच्चो मे दाँत निकलना एक आम बात और natural  है।  इसमे बच्चो को तकलिफ से गुजरना पडता और माता पिता को भी क्योकी माँ बाप से बच्चो की बैचैनी देखी नही जाती तथा उसका ख्याल भी जादा रखना पडता है। बच्चे बहोत नाजुक होते है दर्द न सह पाने से ओ सहम जाते है नही तो उनमे बुखार आता है।बच्चो मे दाँत निकलना प्रारंभ होते समय उनमे दस्त लगने के या बुखार आने की संभावनाए जादा रहती । बच्चो मे जादा दस्त हो रहे हो डाॅक्टर से संपर्क करे ।

 

दाँत निकलने के लक्षण : 

  • मसुडे और उनकी sideमे त्वचा लाल होना एंव हल्की सी सुजन आना।
  • जादा माञा मे लार गिराना ।
  • भुख कम लगना।
  • मसुडो मे दर्द सनसनाहट की वजह से चिड़चिड़ापन और रोना ।
  • मसुडो मे सनसनाहट की वजह से बाहरी चीजे तथा उंगलिया मुह मे डालना।
  • कानो और जबडो मे दर्द रहने से कान खुजाना।
  • पतले दस्त होना।
  • दर्द न सहने से बुखार आना।
  • सुस्त होना।

 दाँत निकलना

बच्चो मे दाँत निकलना और उसपर उपाय :

बच्चो मे दाँत निकलने वक्त उनको कठीन समस्या से गुजरना पडता है।ऐसे मे हम उनकी तकलिफ को कम करने के लिए कुछ घरेलू उपाय कर सकते है।

  • उनके जबडो की तेल से हल्के हाथो से मालिश करे। उपर और निचे के ओठो को हल्के से प्रेस करके दबाए।
  • तुलसी का रस उंगली पे लेके( पहले उंगली अच्छे से साफ करे) उसको मसुडो पे लगाए या हल्की सी मसुडो की मालिश करे इससे बच्चो को दर्द मे राहत मिलेगी।
  • जैतुन तथा मालिश के तेल से उनके पैरो पर मालिश करे इससे उनको अच्छी नींद आएगी ।
  • मसुडो मे सनसनाहट से बच्चा उंगलिया या चीजे डालता है और चबाता है इससे दस्त होते है इसलिए उनके खेलने वाले खिलोनो को साफ रखे तथा गरम पाणी मे नमक डालकर उबले पाणी मे साफ करे।नही तो बाजार मे बहोत से आकार के मुह मे डालने वाले खिलोने  मिलते है।
  • बच्चो को थोडीथोडी देर मे स्तनपान करवाए या बच्चा 6 महिने के उपर है तो गुनगुना पाणी /ओआर एस का घोल पिलाए दाल का पाणी, चावल का पाणी /पतली पेज इससे शरीर  मे दस्त होने से पाणी की कमी नही होगी ।  जादातर घर का लगा दही दे इससे दस्त कम होगे ।
  • बच्चा ठोस आहार ले रहा है तो उसके खाने मे पका केला , दही , दुध , मुंगदाल की पतली खिचडी , दलिया  साबुदाना खीर आदी पदार्थ खिलाए । थोडीथोडी देर मे खाना खिलाते रहे उससे बच्चो मे कमजोरी नही आएगी।

बच्चो को धुप मे खेलने दे इससे विटाॅमिन डी मिलता है यह बच्चो की हड्डियाँ और दाँत मजबुत बनाता है।

धन्यवाद , आपको यह article अच्छा लगा हो और इससे संबधित और जानकारी चाहिए हो तथा कुछ सुझाव देना चाहते हो तो हमे [email protected] पर संपर्क करे।

Share

error: Content is protected !!