बालको में चिकनगुनिया वायरस ।उसपर घरेलू उपाय। - HealthUpachar

बालको में चिकनगुनिया वायरस ।उसपर घरेलू उपाय।

बालको में चिकनगुनिया होना बड़ो के मुक़ाबले ज्यादा आसान है ।क्योंकी बच्चे बड़ो के मुकाबले कम strong रहते है ।उनकी इम्यून system पर जल्द असर होता है ।और जल्द वह किसी भी वायरल या बीमारी की चपेट में आते है। बालको में चिकनगुनिया  होने से ज्यादातर उनके जोड़ो में दर्द नही होता , बुखार के साथ अन्य कुछ लक्षण दिखाई देते है। चिकनगुनिया मच्छर काटने से होता है ,यह मच्छर ड़ेंगू का ही होता है जो कि डेंगू और चिकनगुनिया दोनों को फैलता है ।बालको में चिकनगुनिया होने के बाद10 से 15  दिन रहता है। खून की जांच जरूरी है,इसे समझ ने के लिए डॉक्टर के पास ले जाये।

बालको में चिकनगुनिया

चिकनगुनिया के लक्षण डेंगू बुखार   से  मिलते है और यह  मच्छर एडिस के काटने के कारण होता है यह मच्छर दिन में ज्यादा सक्रिय होते है तथा पानी मे पनपते है इसलिए घर की छतों पर और आजु बाजू में कही भी पानी इकठ्ठा न होने दे ज्यादा तर बारिश में इसका ध्यान रखे।

चिकनगुनिया डेंगु इतना गम्भीर नही होता है इसमे मृत्यु होने की आसंका नही होती ।कभी कभी चिकनगुनिया बच्चो को बहोत कमजोर करके छोड़ता है इसकारण बच्चों को संतुलित आहार दे जिसमे भरपूर प्रोटीन ,minerals और कार्बोहाइड्रेट हो।

बालको में चिकनगुनिया

 

चिकनगुनिया के लक्षण :

  • तेज बुखार ।
  • जोड़ो और मांसपेशिओ में असहनीय दर्द ।
  • उल्टी आना ,जी मचलना ,मितली।
  • कमजोरी।
  • Skin पे चकत्ते।
  • तेज बदन दर्द।
  • मुह में छाले।
  • सिरदर्द ।

 

यह पढ़े…मलेरिया से दूर रखें अपने बच्चों को। Maleriya fever

बालको में चिकनगुनिया पर घरेलू इलाज । :

  • तरल पदार्थ खिलाये सब्जियों का सुप,ज्यूस ,दाल का पानी चावल की पेज , आदि
  • दूध और दुधके प्रॉडक्ट खिलाएं।
  • ज्यादा मात्रा में पाणी पिलाये इससे dihydration नही होगा ।और पानी की मात्रा शरीर मे बनी रहेगी।
  • बदन दर्द के कारण बच्चो को छूने पर भी तकिफ़ होती है ।ऐसे में आप लहसुन तेल में उबालकर उससे बच्चो की हल्के से मालिश करे ।लहसुन जोड़ो के दर्द केलिए लाभदायक है ।
  •   लहसुन का देसी घी में  तड़का लगाकर मूँग दाल की खिचड़ी भी बना सकते हो । लहसुन जोड़ो के दर्द और  सन्धिवात में लाभदायक है।
  • नीम के पत्तो का रस पिलाए। इससे चिकनगुनिया में लाभ होगा ।
  • मूली का रस पिलाये ।
  • विटामिन सी युक्त पदार्थ खिलाए ,जैसे कि :सन्तरा आवला ,मौसमी, टमाटर ,निम्बू ,पपीता, अमरूद आदि ।
  • नारियल का पानी पिएं।
  • गाय के दूध में किशमिश मिला ले और वह खाने को दे ,चिकनगुनिया में लाभ होगा।
  • गाजर खिलाए सुबह जागर खाने से चिकनगुनिया जल्द ठीक होता है।
  • पपीते के पत्तो रस पिलाये इससे प्लेटलेट्स बढ़ते है।
  • खजूर खिलाये इस्से शरीर में आई कमजोरी जल्द दूर होती है। यह नैचरल energy booster है ।खून भी बढ़ता है।
  • बुखार आने पर ठंडी पट्टीया रखे।
  • तुलसी के रस को शहद में मिलाकर खाये यह  चिकनगुनिया पर असरदार इलाज है।
  • अंगूर का रस पिलाये ।

बालको में चिकनगुनिया

चिकनगुनिया पर बचाव :

पहले तो मच्छरो से बचाव ही अहम है । घर या घर के आसपास मच्छर मारने वाली दवा छिड़के ।

घर के दरवाजों और खिड़कियों को जाली लगवा ले ।

घर के बाहर नीम की पत्तियां जलाने से मच्छर नही आते ।

बच्चो को पूरे बाह वाले shirt और फुल pant पहनाये। वह हल्के रंग के हो ज्यादा गहरे रंग के कपड़े मच्छरो को आकर्षित करते है ।

वातानुकूलित जगह पर  मच्छर नही आते  हो सके तो बच्चो को वातानुकूलित जगह पर रखे ।

घर औऱ घर के बाहर सफाई बरते ,गंदी नालियों और जमे हुए पानी मे मिट्टी का तेल डालें ।

धन्यवाद  ,इससे सम्बन्धी अधिक जानकारी के लिए हमे  [email protected] पर सम्पर्क करे  ।हमारा पोस्ट फायदेमंद रहा हो तो share जरुर करें ।

 

 

 

 

 

Share

error: Content is protected !!