सर्दी खाँसी पर इलाज for kids। cough cold in child - HealthUpachar

सर्दी खाँसी पर इलाज for kids। cough cold in child

बच्चो मे सर्दी खाँसी  होना: वैसे सभी की इम्युन सिस्टिम अलग अलग होती है ।इससे कुछ बच्चे जल्दी व्हायरल इन्फेक्शन की चपेट मे आ जाते है तो कुछ बच्चे जल्दी बीमार नही होते और हो भी जाए तो कम समय मे ठीक हो जाते है ।मौसम बदलने से बच्चो मे सर्दी खाँसी होना आम बात है।बच्चो मे सर्दी खाँसी होने पर हम घरेलु उपायो से इन्हे कम कर सकते है ।  3   माह से  बच्चो मे सर्दी खाँसी हो तो तुरंत उसे डाॅक्टर के पास लेके जाए ।क्योकी स्तनपान करने मे उन्हे कठीनाइ होती है,और उनका मुल आहार स्तनपान ही होता है। 3 से 4 माह  के उपर के बच्चो को हम घरेलु उपाय कर सकते है।बच्चो मे सर्दी खाँसी साल मे 4 से 5 बार होती है।वैसे देखा जाए तो  साल मे से करीबन एक से दो बार सर्दी खाँसी होना लाझमी है क्योकी इससे शरीर मे से कफ बाहर निकलता है । सर्दी खाँसी बच्चो मे 3 दिन से हप्ते तक रह सकती है । वैसे तो ऐ वाइरल है, जिसको सर्दी खाँसी होती है उसके संपर्क मे आने से तथा इनके छिंकने से या खासने से ऐ विषाणु दुसरो के शरीर मे जाते है और इफेक्ट करते है।

 सर्दी खाँसी होना

सर्दी खाँसी के लक्षण :

  • नाक से पाणी, श्लेम  आना।
  • गले मे खराश।
  • श्वास लेने मे तकलिफ।
  • छाती मे से घर घर आवाज आना।
  • आखे लाल होना ।
  • कान खुजाना।
  • सिर दर्द से तथा बदन दर्द से चिडचिडा होना या जादा रोना।
  • एक दो बार से जादा खासना।
  • बंद नाक की वजह से नींद मे से बार बार उठना ।

 

सर्दी खाँसी के कारण  :

  • आम तौर पर मौसम बदलने से।
  • धुआ या धुल के संपर्क मे जादातर आने से ।
  • थंड लगने से ।
  • जादा खट्टा खाने से।
  • शक्कर खाने  के कारण ।
  • ठंडी चीजे खाने या पिने से तथा ठंडा जादा खाने से ।
  • सर्दी खाँसी हुऐ वाले लोगो के संपर्क मे जादा रहने से ।

 सर्दी खाँसी  होना पर उपाय :

  • अदरक  : अदरक दुध मे उबालकर गुनगुना होने पर दुध को पिलाए इससे गला सिकेगा और सर्दी खाँसी मे आराम मिलेगा।
  • हल्दी वाला दुध :  रात को दुध मे हल्दी डालके उबाल ले उसे सोने से  पहले पिलाए खाँसी और कफ मे यह असरदार है।
  •  जायफल : जायफल पाणी के साथ घिसकर इसका लेप सिर पर लगाने से सिर्द और और सर्दी मे आराम मिलता है । पुराणी सर्दी मे भी ये असरदार इलाज है।इसके स्मेल से बच्चो को नींद भी अच्छी आती है ।  तथा जायफल को दुध मे उबालकर पिलाने से भी राहत मिलती है ।                पर खानेमे जादा माञा ना ले इसका गर्म मिजाज होता है तो सौच लग सकते है।
  • पुदीना , तुलसी  : 5 से 6 पत्ती या लेकर पाणी मे इसका काढा बनाए  ,इसको दिन मे 2  ,3बार पिलाए ।तथा नित्य  सुबह तुलसी  के 4,5 पत्ते चबाकर खाने से सर्दी  से दुर रहा जा सकता है।
  • तील का तेल : तील के तेल मे नमक मिलाकर छाती और पीठ पर सोने से पहले मालिश करे ।इससे छाती मे जमा कफ बाहर आएगा।
  • नाक साफ करने के लिए नरम कपडा ले , हल्के से नाक साफ करे । नाक बंद होने पर अंदर का श्लेम सुख जाता है उसे साफ करने के लिए थोडे से प्युरीफाइड गुनगुने पाणी मे नरम कपडा गिला करके हल्के से साफ करे ।साई से नाक लाल होने पर लहसुन तेल मे गरम कर के वह तेल लगाए ।
  • वेपररब : वेपर रब छाती , गला और पीठ पर लगाने से सर्दी मे आराम मिलता है ।
  • अजवायन और लहसुन : अजवायन और लहसुन अच्छे से गरम करे नरम कपडे मे उतारकर पोठली बनाए और इससे बच्चो की छाती , पीठ, गला , सिर और नाक को सेंके इसका जल्द असर सर्दी मे होगा ।वैसे लहसुन सुगने पर भी लाभ होता है ।पर जादा ना सुगने को दे नही तो उल्टी होने के चांसेस रहते है।
  • 1-2 कालीमिर्च+ छोटा तुकडा अदरक + 4-5तुलसी के पत्ते + 4-5पुदीने के पत्ते सब का काढा बनाकर पिलाए। थोडी थोडी माञा मे पिलाते रहे।
  • कालीमर्च का खाने मे इस्तेमाल करे।
  • बच्चो को आराम करने दे ,पुरी नींद लेने  दे ।
  • बच्चो को ठंडी चीजे ना खिलाए ,खट्टी और शक्कर वाले पदार्थो से दुर रखे।जादातर गुनगुने तरल पदार्थ दे । सर्दी मे मुह का स्वाद चला जाता है इससे बच्चे जल्दी खाना नही खाते और भुख की वजह से भी वो चिडचिडे हो जाते है।इसका सिधा असर उनके वजन पर होता है ।ऐसे मे उन्हे घरपर बनी हुई सेहतमंद चटपटा खाने को दे ।जैसे की पालक पुडी तेल की जगहा देसी घी मे तले । दाल चावल खाता है तो अच्छा नही तो चटपटा पुलाव सारी सब्जीया डालके या बिर्याणी बनाए। चिला बनाए,  सुप पिलाए ।खाना भरपेट खाने से उनमे स्पुर्ती बनी रहेगी और जादा चिडचिडे नही होंगे।
  • सर्दी होने पर बच्चो को पर सिर के उपर से ना नहलाए  बाल गिले होने से सर्दी  होने के जादा चांसेस होते है।
  • बच्चो को गरम कपडे पहनाए ।कान बंधे रहने दे।बच्चो को साॅक्स पहनाए नंगे पैर फर्श पर ना खेलने दे ।धुल और धुए से बचाए ।
  • बच्चो को बाहर के तले हुये पदार्थ ना खिलाए ।
  • गरम कमरे मे रखे,छोटे शिशुओ को सर्द हवा से बचाए । साफ सफाई रखे ।

धन्यवाद , यह  article आपको अच्छा लगा हो तो, और इससे related और जानकारी के लिए हमे [email protected] gmail.com पर संपर्क करे

 

 

Share

error: Content is protected !!