BCG टिका : क्यों जरूरी है । विस्तृत जानकारी । - HealthUpachar

BCG टिका : क्यों जरूरी है । विस्तृत जानकारी ।

BCG टिका बच्चों को जन्म के समय ही लगाया जाता है । यह  बच्चों की इम्युनिटी को मजबूत बनाकर शिशु के शरीर में रोगो से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज बनाता है । मुख्यतः  BCG टिका टी बी की रोकथाम के लिए लगाया जाता हैं। इससे बच्चों में  टी बी होने की संभावना पूरी तरह खत्म हो जाती है। BCG टिका पूरी तरह सुरक्षित हैं तथा दुनिया मे प्रभावी रूप में पाई जाने वाली दवाओं में से एक है ।  तथा यह बहोत ही सस्ताजाने वाली दवाओं में से एक है ।  तथा यह बहोत ही सस्ता और आसानी से प्राप्त होने वाली वैक्सीन है । यह इंजेक्शन के रूप में बच्चो के हाथों पे दी जाती है ।

भारत सरकार  ने इसे बच्चो को देने के लिए अनिवार्य घोषित किया है। तथा यह पूर्ण रूप से सुरक्षित हैं।

BCG टिका

BCG  टिका क्या है। :

BCG (Bacillus Calmette Guerin)  वैक्सीन बच्चों को टी बी से लड़ने के लिए दी जाती है । तथा यह बच्चों को कुष्ठ रोग से भी बचती है और किडनी ट्यूमर को भी दूर रखती हैं। पर यह सिर्फ  टी बी से  संबंधित मानी और जानी जाती है ।कुष्ठ के लिए इसका प्रचार नही हुआ है ।

एक बार देने के बाद यह उम्र भर बच्चो को सुरक्षा प्रदान करती है । तथा जन्म के समय बच्चों की इम्यून system कमजोर होने के कारण उनका शरीर रोगो से लड़ने मे असमर्थ होता है ।उसके बचाव के लिए  BCG का टीका लगवाना अनिवार्य है ।

BCG का शोध :

दो फ्रेंच scientist ” Albert Calmette ” और  “Camlille Guerin”  ने इसको 1905 से 1918 में बनाया और इसका पहला प्रयोग 1921 में टी बी के खिलाफ लड़ने के लिए करवाया गया ।  तबसे यह पूरे विश्व मे प्रसिद्ध है । यह सबसे effective  दवाओं में से एक है और पूर्ण तया faith full है । इसमे कोई गुंजाइश नहीं कि इससे टी बी की रोकथाम नहीं होती।

 BCG का टीका कब लगवाएं :

यह जन्म के तुरंत बाद या 1 से 2 दिन में अस्पताल में लगवाया जाता है ।अगर किसी कारण वश घर मे हो या अस्पताल में न डिलेवरी हो तो आप इस टिके को  15 दिन के अंदर लगवा सकते हो  ।

कभी कभार एखाद बच्चे में यह फेल गया तो 3से4 माह के बाद पुनः टिका दिया जाता है ।पर इसकी पड़ताल के लिए टी बी skin test करवाना पड़ता है ।

जन्म के उपरांत इस टिके को न दिया तो 5 साल तक आप इसे बच्चो को दे सकते हो पर इसको देने के लिए कुछ टेस्ट करवाने पड़ते है  और उसके result के बाद ही इस टीके को लगवाया जाता है ।

BCG टिका

टीके के side effect :

देखा जाए तो इसका कोई गंभीर दुष्प्रभाव बच्चो पे नही होता ।पर हल्का सा बुखार ,ठंड या  उल्टी हो सकती है । यह जल्द ठीक  न होने पर तुरंत डॉक्टर से मिले ।

तथा टिके की जगह लाल होना यह 4 से 5 हप्ते तक रहता है । और टिका दी हुई जगह 2 दिन तक सुखी रखे ।

धन्यवाद। इससे related अधिक जानकारी के लिए आप हमें [email protected] पर संपर्क करे ।

 

 

 

 

Share

error: Content is protected !!