D.P.T टिका क्यों है जरूरी शिशुओ के लिए । - HealthUpachar

D.P.T टिका क्यों है जरूरी शिशुओ के लिए ।

D.P.T टिका शिशु को जन्म से 6 हप्ते के बाद दिया जाता है। यह टीका शिशुओ के लिए भारत सरकार द्वारा अनिवार्य टीकों में से एक है। ।D.P.T टिका सभी सरकारी अस्पताल लो में भी उपलब्ध है। यह तीन तरह की बीमारिओसे बचने के लिये दिया जाता है ।जो कि बहोत गंभीर और संक्रामक बीमारिया है ।  D.P.T टिका डिप्थीरिया, pertussis(काली खांसी) और टिटनस से बचाव को दूर रखता है ।

D.P.T टिका

D.P.T टिका क्यो जरूरी है  :

यह  टिका बच्चों को तीन संक्रामक बीमारिओसे बचाता है । डिप्थीरिया : यह बच्चो में होने वाला गले का संक्रमण है जो कि बहोत तीव्र होता है ।इसमे बच्चो के गले मे   सूजन ,  तीव्र टॉन्सिल होते है ।डिप्थीरिया जीवाणुओं के संक्रमण से होने की संभावना होती है यह जीवाणु एक प्रकार का विष शरीर मे  छोड़ते है । इस विष से बच्चे की दिल पर सूजन आती है  तथा स्नायु तंत्र बिगड़ता है । इसका ईलाज न होने पर मृत्यु भी हो सकती है ।

काली खाँसी  :    काली खाँसी भी कहते है । इसमे बच्चो के नाक और गले का संक्रमण तथा बचे की श्वशन प्रणाली पर  असर होता । खाँसी की तीव्रता अधिक होती है और बाद मे गले मे से भोवँ भोवँ की आवाज भी आना संभव है।

टिटनेस  : इसमे बच्चों की  शरीर की ऐठन होती है या अकडन होना संभव है तथा बच्चे का जबड़ा बंद होता है ।

उपर दी गई जानकारी के मुताबिक तीनो बीमारिया भयानक है  तथा यह संक्रमण से होंती है  और उनपर रोक लगाना सिर्फ DPT वैक्सिन से ही संभव है ।इसकारण बच्चो को DPT का टीका लगवाना जरूरी है ।

कब लगवाए टिका :

शिशु के लिए  3 खुराक होती है।

पहला डोज़ : जन्म के  6 हप्तों बाद ( डेढ़ माह पश्च्यात)

दूसरी खुराक :  10 हप्ते बाद ( ढाई माह का होने पर )

तीसरा डोज : 14 सप्ताह के बाद

D.P.T टिका

DPT खुराक के side effect  :

बुखार आना ।

इंजेक्शन दी गई जगह लाल होना या अकड़ना।

चिड़चिड़ापन, अत्यधिक रोना ।

दर्द, सूजन ।

किस अवस्था मे बच्चो को खुराक न दे ।

बच्चे को बुखार होने पर D.P.T की वैक्सिन न दे।

वैक्सिन देने से पहले बच्चों में हुई वाली या चल रही बीमारी के बारे में जरूर बताएं ।

सावधानी या ।

2 से 3 के बाद बुखार न उतरे तो तुरंत डॉक्टरों से सम्पर्क करें ।

इससे बच्चे में इंजेक्ट की जगह पर गांठ आती है उसपर बर्फ लगाए ।इससे बच्चो में आराम भी मिलेगा अकडन भी ज्यादा महसूस नही होगी।

 

 

 

 

 

Share

error: Content is protected !!